Connect with us

Crime

पुलिस ने पिता को किया था बेइज्जत, गुस्से में बेटा IPS ..

Published

on

Page Media:- एनकाउंटर स्पेशलिस्ट नवनीत सिकेरा लखनऊ शहर में IG के पद पर कार्यरत हैं। सोशल मीडिया पर लोग इन्हें सम्मान के साथ सुपर कॉप कहते हैं। इनकी छोटी सी प्रोफेशनल लाइफ पर एक वेब सीरीज ‘भोकाल’ बनाई जा चुकी है। एटा जिले के एक छोटे से गाँव में जन्मे नवनीत ने कई मुश्किलों का सामना करते हुए आईपीएस बनने तक का सफर तय किया। लेकिन नवनीत को शुरू से ही आईपीएस बनने का ख्याल नहीं था। बल्कि पिता के साथ हुए एक दुर्भाग्यपूर्ण वाक्या ने उन्हें पुलिस सेवा में आने के लिए प्रेरित किया। 

नवनीत ने एटा जिले के आल बॉयज स्कूल से हाई स्कूल पास किया जिसके बाद वह दिल्ली के हंसराज कॉलेज में एडमिशन लेने पहुंचे। लेकिन कॉलेज में उनको अंग्रेजी ना आने के कारण एडमिशन फॉर्म नहीं दिया गया। फार्म ना मिलने पर उन्होंने हार नहीं मानी और खुद से किताबें खरीद कर पढ़ाई की। अपनी मेहनत-लगन से उन्होंने एक ही बार में आईआईटी जैसा एग्जाम क्रैक कर दिखाया और आईआईटी रूड़की से सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन पूरी की।

उनके पिता के साथ हुए एक हादसे ने उन्हें पुलिस सेवा में शामिल होने के लिए प्रेरित किया। नवनीत बताते हैं कि उनके पिता को कुछ धमकी भरे फोन आ रहे थे। उनके पिता इसकी शिकायत करने थाने पहुंचे, लेकिन पुलिस ने कार्यवाही ना कर उनके पिता को ही बेइज़्जत कर पुलिस स्टेशन से निकाल दिया। इस घटना का नवनीत पर काफी प्रभाव पड़ा और उन्होंने MTech की पढ़ाई छोड़ कर सिविल सेवा की परीक्षा के लिए तैयारी करने का निर्णय लिया।  

पहले ही एटेम्पट में कर लिया था UPSC IAS एग्जाम क्लियर

नवनीत ने बिना किसी कोचिंग का सहारा लिए खुद की मेहनत और लगन से पहले ही एटेम्पट में सिविल सेवा परीक्षा पास कर ली थी। उनकी रैंक इतनीअच्छी थी की उन्हें आसानी से IAS की पोस्ट मिल सकती थी। लेकिन उन्होंने IPS बनने का सपना देखा था और उसी को चुना। वह 32 वर्ष की उम्र में लखनऊ के सबसे युवा SSP बनें। 

“प्रतिभा नाम की कोई चीज नहीं है, अगर आपके भीतर कुछ करने की आग है तो प्रतिभा खुद आपका पीछा करती है। ” – नवनीत सेकेरा

Continue Reading

Crime

कृषि कानूनों की वापसी के बाद एक और बड़ा फैसला, अब पराली जलाना जुर्म नहीं

Published

on

burning stubble is not a crime

Page Media: – पिछले 1 साल से चल रहे कृषि कानूनों को लेकर प्रदर्शन को समाप्त करने और वापस घर लौटने की अपील प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानो से 19 नवंबर को ही कर दी थी। घर वापसी की अपील के बाद भी किसानो ने बिना अपनी मांगों को मनवाए वहां से न जाने की ठान रखी है।

सोमवार को संसद की कार्यवाही के बाद मीडिया से बात करते हुए कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि 2014 के बाद से एमएसपी की खरीद को दोगुना कर दिया गया है। पीएम मोदी के नेतृत्व में कई फसलों पर ये दाम लागू किए गए हैं। उन्होंने यह भी कहा कि किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) देने के लिए प्रधानमंत्री ने कमेटी की गठन की घोषणा की है, उनकी रिपोर्ट आते ही उस पर भी कार्रवाई की जाएगी।

किसान अभी भी एमएसपी समेत कई मांगों को लेकर अड़े हुए हैं। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों के खिलाफ दर्ज मामलों को वापस लेने पर कहा कि यह राज्यों का विषय है, इसलिए इन मामलों पर संबंधित राज्य सरकारें फैसला करेंगी। साथ ही यह भी कहा की सरकार ने किसानों द्वारा पराली जलाने को अपराध की श्रेणी से बाहर कर दिया है। उन्होंने किसानों की इस मांग को केंद्र सरकार द्वारा मान लेने का ऐलान किया।

तीनों कृषि कानून वापसी के ऐलान को देखते हुए कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि किसानों की लगभग सभी मांगें को मान लिया गया है। ऐसे में उन्हें अब अपने-अपने घरों को वापस लौट जाना चाहिए। कृषि मंत्री ने कहा संसद में बिल लाने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है तो ऐसे में किसानों के आंदोलन का अब कोई औचित्य नहीं रह गया है। उन्होंने कहा कि किसान अब बड़े मन का परिचय दें।

Continue Reading

Crime

सिलेंडर चोरी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश क्राइम ब्रांच ने किया गिरफ्तार

Published

on

Page Media :- क्राइम ब्रांच एनआइटी ने एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है जो कारों से सीएनजी (CNG) सिलेंडर (Cylinder) चोरी करके फरार हो जाता था। गिरोह के सदस्य फरीदाबाद के साथ ही गुरुग्राम में भी कारों से गैस सिलेंडर चोरी कर रहे थे। इस गिरोह के सभी सदस्य नूंह के निवासी है। आरोपितों में नूंह निवासी आबिद, सौकीन और लुकमान शामिल हैं।

इन्हें क्राइम ब्रांच (crime branch) एनआइटी प्रभारी नरेंद्र शर्मा की टीम ने गिरफ्तार किया है। नरेंद्र शर्मा ने बताया कि कारों के टायर, इंजन कंट्रोल माड्यूल, साइड मिरर चोरी करने वाले गिरोह पकड़े जाते रहे हैं। यह पहली बार है जब सिलेंडर चोरी करने वाला गिरोह पकड़ा गया है।

रात में घरों के बाहर खड़ी कारों की रेकी करते थे

मिनटों में खोल लेते थे सिलेंडर आरोपित नूंह से आकर रात में घरों के बाहर खड़ी कारों की रेकी करते थे। जैसे ही उन्हें कोई कार सुनसान जगह खड़ी दिखती तो पीछे वाले शीशे से अंदर झांककर सुनिश्चित करते थे कि कार में सीएनजी सिलेंडर रखा है। इसके बाद हथौड़े से वार कर कार की डिक्की का लाक तोड़ डालते थे। आरोपित अपने पास बड़ी कैंची रखते थे। उससे कार में पीछे रखे सिलेंडर की पाइप चुटकियों में काट लेते थे। फिर सीएनजी सिलेंडर मिनटों में खोलकर ले जाते थे। बाद में ये सिलेंडर को कबाड़ियों को औने पौने दामों में बेच देते थे। आरोपितों ने जिले की चार वारदात कबूल की है।

इनमें डबुआ, कोतवाली, खेड़ी पुल और मुजेसर क्षेत्र में आरोपितों ने चोरी की है। क्राइम ब्रांच ने आरोपितों से चोरी के चारों सिलेंडर बरामद कर लिए हैं। वहीं गुरुग्राम पुलिस को भी इनके बारे में सूचित कर दिया है ताकि वहां की पुलिस इनसे पूछताछ कर सके।

Continue Reading

Crime

घर में छापा मारकर 120 किलोग्राम हेरोइन की जब्त

Published

on

Page Media :- गुजरात सरकार की ओर से मादक पदार्थों की तस्करी के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान के तहत आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने 120 किलोग्राम हेरोइन जब्त (120 kg heroin seized) कर तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। यह मादक पदार्थ पाकिस्तान से तस्करी के जरिये अरब सागर के रास्ते भारत लाया गया था।

इसे किसी अफ्रीकी देश भेजा जाना था।आतंकवाद निरोधक दस्ते ने गुजरात के मोरबी जिले में एक घर में छापा मारकर 120 किलोग्राम हेरोइन जब्त की है।

एटीएस ने इस मामले में तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया है

एटीएस ने इस मामले में तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया है। गुजरात में एक सप्ताह में नशीलेपदार्थों की यह दूसरी बड़ी खेप बरामद की गई है। इससे पहले द्वारका जिले से भारी मात्रा में मादक पदार्थ जब्त किया गया था।गुजरात एटीएस ने मोरबी जिले के झिंझुडा गांव में स्थानीय पुलिस के साथ मिलकर यह छापेमारी की।

एटीएस को सूचना मिली थी कि झिंझुडा गांव में एक निर्माणाधीन मकान में भारी मात्रा में ड्रग्स को छिपाकर रखा गया है। एटीएस ने इस संबंध में स्थानीय पुलिस को जानकारी दी।

120 किलोग्राम मादक पदार्थ जब्त कर तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया

एटीएस और स्थानीय पुलिस ने उक्त घर में छापा मारकर वहां से 120 किलोग्राम मादक पदार्थ जब्त कर तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार लोगों में जामनगर निवासी गुलाम हुसैन भगाड़ व मुख्तार हुसैन उर्फ जब्बार और एक अन्य व्यक्ति है।पुलिस महानिदेशक आशीष भाटिया ने बताया कि झिंझुंडा गांव भेजे जाने से पहले ड्रग्स को द्वारका जिले के तटीय इलाके में छिपाकर रखा गया था।

जिस व्यक्ति के निर्माणाधीन मकान से हेरोइन बरामद हुई है, उसकी पहचान गुलाम हुसैन भगाड़ के रूप में हुई है।

यह मादक पदार्थ पाकिस्तान निवासी जाहिद बशीर बलोच ने भेजा था

पिछले कई मामलों की तरह इस बार भी ड्रग्स के इस कारोबार की साजिश संयुक्त अरब अमीरात में रची गई थी।भाटिया ने बताया कि यह मादक पदार्थ पाकिस्तान निवासी जाहिद बशीर बलोच ने भेजा था। 2019 में 227 किलोग्राम हेरोइन बरामद किए जाने के एक मामले में राजस्व खुफिया निदेशालय उसे फरार घोषित कर चुका है।

उल्लेखनीय बात यह है कि मादक पदार्थ की तस्करी करने वाले पाकिस्तान से समुद्र के रास्ते ड्रग्स लेकर आते हैं। गुजरात से इन मादक पदार्थों को देश और विदेश के अन्य हिस्सों में भेजा जाता है।

Continue Reading

Trending

Copyright © 2020 www.industrialbureau.net